पृष्ठ

मंगलवार, 2 जून 2020

यादों के दस्तावेज़

१०-१२ पेज के पत्र ,लिखते हुए न हाथों में दर्द ,पढ़ते हुए न आंखों में दर्द। हां ,खुशी या गम के आंसू टप टप टपक कर अक्षरों को धब्बा जरूर बना देते थे।

ओ ओ आप ऐसी लैटर्स के जमाने के हो, हाथ में अंतर्देशीय और पोस्टकार्डस के पुलिंदे को देख बेटी ने मजाक बनाई।अब उसे क्या बताऊं,कितने इतिहास,कितने त्यौहार ,कितनी सीखें,कितना रोमांस,कितनी खुशियां,कितने सुख ,कितने दर्द छिपे होते थे इन पत्रों में।तकिए के नीचे , किताबों के भीतर,जेब में मुड़े जुड़े कागज ,समय की पूंजी।

पत्र लेखन का इतिहास बहुत प्राचीन है। दुनिया में कई महत्वपूर्ण पत्र लिखे गए। उनमें एक प्रसिद्ध पत्र शिला में लिखा पहला सबसे महत्वपूर्ण पत्र माना जाता है।पहला हस्तलिखित पत्र किंग हेनरी VIII ने अपनी प्रेमिका को लिखा जो बाद में उनकी दूसरी पत्नी बनीं।ग्यारह वर्षीय बालिका ग्रेस बेडेले का अब्राहिम लिंकन को लिखा पत्र इस क्रम में महत्त्वपूर्ण माना जाता है ।मेले से अपने पिताजी द्वारा लाए अब्राहिम लिंकन के चित्र को देखकर उसने यह लिंकन को  पत्र लिखा कि वह उन्हें एक दिन अवश्य राष्ट्रपति बने देखने की उम्मीद करती है।कहते हैं चार्ल्स डार्विन जो पत्र अपने घनिष्ठ मित्रों को लिखते थे और इन्हीं पत्रों में उन्होंने idea of evalution and natural selection के सिद्धांतों की चर्चा की थी।विंस्टन चर्चिल के जर्मन नाजियों को लिखे पत्र खासे चर्चित हुए जो २०१० में बहुत महंगे बिके।

महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू, टैगोर आदि महत्वपूर्ण व्यक्तियों के पत्र खासे चर्चित रहे हैं और इतिहास की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण हैं।काफ्का,इलियट,रेणु,अज्ञेय ,पांडे बैचेन शर्मा,साहनी न जाने कितने महत्त्वपूर्ण हस्ताक्षर हैं जिनके पत्र  खूब चर्चित रहे।

कहते हैं पत्र से आप पत्र लिखने वाले के व्यक्तित्व को जान सकते हैं ।और वो कहावत'मियां हम तो लिफाफे से खत के मजमूं को जान लेते हैं।'

आज न वो जमाना न वो रिश्ते न वो पत्र लिखने की परंपरा ।तुम  क्या जानो बच्ची कारूं के खजाने हैं ये पत्र।

#letter_writting

सोमवार, 18 मई 2020

बच्चों,

हमारे कान खुले हैं तुम्हें सुनने के लिए , हमारी बाहें खुली हैं तुम्हें गले लगाने के लिए,हमारा दिल बहुत बड़ा है तुम्हारी हर अच्छाई और बुराई ,हार जीत को स्वीकार करने के लिए।

बिन बताए यूं न चले जाओ,इतने अकेले न रहो।हम हैं न।कहकर तो देखो। तुम्हारे यूं चले जाने से हम भी तिल तिल टूट रहे हैं।

#फिर_एक_बार!
मुझ जैसी कई और लड़कियां (!)होंगी जो पिता से ज्यादा जुड़ी होंगीं। मैं जितनी बातें अपने पिताजी से शेयर करती थी उतनी मां से नहीं कर पाती थी।पिताजी का हर निर्णय मुझे मान्य होता ।

मां का महत्व उस दिन अधिक समझ आया जब मेरी बेटी ने अपना पहला टीनएजर टैंट्रम दिखाया।गुस्से में भरी मैं ......तभी मां का फोन आया ,अभी बेटी के व्यवहार का गुस्सा उगल ही रही थी कि मां ने हंसते हुए धीरे से मेरे तेरहवें साल का जिक्र छेड़ दिया।अब मैं चुप ......फिर याद करती हूं वो ढेर सारी बातें जो मां बिन कहे समझातीं रहीं थीं।हम अनजाने में उन्हें कौपी करते करते बड़े हो गए।

आज जब बच्चे कहते हैं मां तुम नानी जैसी होती जा रही हो तो बहुत अच्छा लगता है।

मां पिताजी की एक बहुत प्यारी तस्वीर और जोकर बने हम ।

#happy_mothers_day
मैं शिव को नहीं जानती ।राहुल और रोहित को जानती हूं।पहले मैं वहीं उनके घर के पास पढ़ाने जाती थी।अब सब बच्चों को अपने घर में बुलाने लगी हूं। हां एक बार जब हमने कुछ बच्चों के घरों में कम्प्यूटर लगवाए थे तब मैं उनके घर के भीतर गई । बच्चों ने बताया कि कम्प्यूटर का टेबल पापा ने बनाया ।पापा कारपेंटर हैं।

कंप्यूटर टेबल के बगल में जमीन में गैस का चूल्हा ,पीछे लकड़ी की दीवार बना कर एक कमरा निकाला गया है ।जिसपर एक फोल्डिंग चारपाई के ऊपर कुछ गद्दे और बिस्तर चादर से ढका हुआ। मुंबई के स्लम्स के अधिकतर घर ऐसे ही होते हैं।सर से लगती छत की ऊंचाई की छः बाई आठ की खोली। बहुत मुश्किल जीवन है इनका ।

राहुल और रोहित दोनों बड़े ही प्यारे बच्चे हैं। राहुल का मन पढ़ने में थोड़ा कम लगता है पर उसकी मुस्कान मन मोह लेती है। रोहित अपेक्षाकृत गंभीर और पढ़ाई में ठीक ठाक है। राहुल और रोहित के पिता हैं शिव ।बेहद सीधे और सच्चे इंसान।

लौकडाउन के दौरान मैं व्हाट्सएप पर बच्चों के लिए पढ़ने के लिए कहानियां प्रश्न आदि भेजती रहती हूं और बच्चे अपनी ड्रौईंग या अन्य सामग्री भेजते रहते हैं।कल राहुल ने एक कविता भेजी ।नीचे लिखा था पापा ने लिखी है।यानी शिव ने लिखी है।न जाने शिव कितने पढ़े लिखे हैं।पर कविता साझा कर रही हूं ।कवित्व की बात न करें तो शिव का यह लेखन उसके जीवन के सत्य से जुड़ी विभत्सता का अंश हो सकता है।
एक ओर मजदूरों का दर्द,दूसरी ओर मिडिल क्लास जिसकी नौकरी जा चुकी है या कट कटा कर मिली सैलरी लोन तले दब गई है ।

कोई अर्थशास्त्री आसान सी भाषा में हम आम लोगों को बताए कि आने वाले दिनों की व्यवस्था कैसे हो?

करोड़ के शून्य इतने ज्यादा हैं कि गिनती बीच में ही गड़बड़ा जाती है।आजतक इतना गिनने की नौबत भी तो न आई।

#कोरोना
नया नहीं था ,कई बार पहले भी सुन चुकी थी ।दो दिन आंसू बहाती और फिर वापस उसी जोश के साथ काम में लग जाती ।पंखे साफ करती , बाथरूम चमकाती ,नई डिश तैयार करती ,नाचती ,फिल्मी गीत गाती ।सबको लगता अब सब कुछ नार्मल हो गया है।पर नार्मल कुछ नहीं हुआ ।

'निकल जा अभी ',मेंटल प्राबलम है क्या'! ये शब्द उसकी रूह में लहू की तरह रिस जाते और रूह की किसी एक स्थायी कोशिका में जमा हो जाते उसी कोशिका के बगल में जहां मां के डायलॉग भी  दिमाग के कंम्प्यूटर से अभी तक डीलीट नहीं हुए थे।विवाह के बाद पति का घर ही लड़की का घर होता है। फिर कहां जाएं वो।

#औरत_हूं_न
#देखा_सुना
#कुछ_बदला_नहीं

शुक्रवार, 20 मार्च 2020